भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिजीविषा / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


समय के समक्ष जब
भिक्षुक हो जाएँ सभी विकल्प
जीवित रखना होता तब
अन्तःप्रज्ञा का ही दृढ़ संकल्प

लक्ष्य निष्ठुर हो जाते हैं जब
रातों में पहाड़ी पगडंडी -से
अपना लहू प्रपंच-मन में भर
जिजीविषा की दियासलाई से
चिमनी को जलाना होता तब
निचोड़ आँखों को स्वयं की
कामनाओं की बाती सुलगाना
जीवन-प्रश्नपत्र के अनिवार्य प्रश्न -सा;

किन्तु फिर भी विकल्पहीन
असफल ही कहलाता
जबकि वह वेश्या सा दिन-रात
अपना तन-मन सुलगाता...

-0-