भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिजीविषा / कुमार मुकुल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पिंजरे में बराबर
बाघ और बकरी

बेबस फांदते कंदील
करते आज्ञा स्‍वीकार

जिजीविषा मजबूर करती है
खाने को

उसे
बांधिए डोर
ले चलिए चाहे जिस ओर