भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिदना मन पंछी उड़ जानैं / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिदना मन पंछी उड़ जानैं,
डरौ पींजरा रानैं।
भाई ना जै हैं बन्द ना जैहें।
हँस अकेला जानें।
ई तन भीतर दस व्दारे हैं
की हो के कड़ जाने।
कैवे खों हो जै है ईसुर।
एैसे हते फलाने।