भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिनको बजत हुकुम को बाजा / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिनको बजत हुकुम को बाजा।
कान रीत में आजा।
हम खाँ जान देब द्द बैंचन।
भग रोकन नई साजा।
करो फिराद जावगे पकरे।
रोकें सें गम खाजा।
जानत नई बृजभान कुँअर खाँ,
जिसकी सकल समाजा,
चौरासी बृज कोस ईसुरी,
हियाँ राधका राजा।