भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिनकौ सेर-सवेरे खइये / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिनकौ सेर-सवेरे खइये,
जिये बिसेख डरइये।
नौ-दस माँस गरम में राखौं।
जिनैं पीठ ना दइये।
नर-नारी को कौन बला-बल,
जिनकी संगत गइये।
सब जग रूठौ-रूठौ रन दो,
राम न रूठौ चइये।
ईसुर चार भुजा बारे खाँ,
का दो भुजा निरइये।