भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिन्दगीलाई दुई टुक्रामा बाँडेर / सुरेन्द्र राना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


जिन्दगीलाई दुई टुक्रामा बाँडेर
एक टुक्रा आफु, एक टुक्रा अरु साँची सहेछु
सायद जिन्दगी पनि अंश लाग्दो रहेछ
अलिकति आफू, अलिकति अरु बाँची रहेछु

म सिङ्गो रुन सक्त्तिन
आँसुको लेनदेन हुन्छ याहाँ
सायद रोदन पनि अंश लाग्दो रहेछ
दुई थोपा आफु, दुई थोपा अरु रोइरहेछु

म सिङ्गो हस्न सक्त्तिन
हाँसोको किनबेच हुन्छ यहाँ
सायद खुसी पनि अंश लाग्दो रहेछ
एकछिन आफू एकछिन अरु हाँसीरहेछु ।