भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिन चिन्हों निज नाम ठिकानो / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिन चिन्हों निज नाम ठिकानो।
सुरत कमान सुमत को होदा आठ पहर दीदार समानो।
शबद तीन गियान की गासी अब तक मारो विजानो।
भूलें भगी सकल भ्रम नासी पूरन ब्रम मर्म पद बानो।
जूड़ीराम अटल पद ऐ ही सुन्दर मुनि जाको धर ध्यानो।