भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिबह-बेला / निलय उपाध्याय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे मुँह मे ठुँसा है कपड़ा
ऐंठ कर पीछे बँधे हैं हाथ

कोई कलगी नोचता हॆ
कोई पाख
कोई गर्दन काटता हॆ
कोई टाँग
हलक मे सूख गई हॆ
मेरी चीख़

मारने से पहले जैसे बिल्ली
चूहे से खेलती है
कोई
खेल रहा है हमसे

लो
फिर आ गए
फिर आ गए सात समन्दर पार से
कसाई....

फिर आया गँडासा
दिल्ली के हाथ