भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिसकी हममें कमी है / आंद्री पिअर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिसकी हममें कमी है, दोस्तो,
वह है साहस

उस समय बोलने का साहस
जब शब्द जल रहे हों;
पत्थर को पत्थर कहने का
ख़ून को ख़ून
और डर को डर

एक दिन, जब वह बड़ी बर्फ़ आएगी
हहराती हुई
तब कठिन होगा
ख़ुद को समझ पाना

अनुवाद : विष्णु खरे