भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिस्म की कुछ और अभी मिट्टी निकाल / फ़रहत एहसास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिस्म की कुछ और अभी मिट्टी निकाल
और अभी गहराई से पानी निकाल

ऐ ख़ुदा मेरी रगों में दौड़ जा
शाख़-ए-दिल पर इक हरी पत्ती निकाल

भेज फिर से अपनी आवाज़ों का रिज़्क़
फिर मेरे सहरा से इक बस्ती निकाल

मुझ से साहिल की मोहब्बत छीन ले
मेरे घर के बीच इक नद्दी निकाल

मैं समंदर की तहों में क़ैद हूँ
मेरे अंदर से कोई कश्ती निकाल