भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिस कूँ पी का ख़याल होता है / हातिम शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिस कूँ पी का ख़याल होता है
उस कूँ जीना मुहाल होता है

ख़म-ए-अबरू की याद सीं दिल पर
ज़ख़्म-ए-नाख़ुन हिलाल होता है

चल चमन तेरे फ़ैज़-ए-क़द से सर्व
हर क़दम में निहाल होता है

जब मैं रोता हूँ खोल कर दिल कूँ
शहर में बर्शगाल होता है

कौन जाने है ग़ैर-ए-हक़ तुझ बिन
जो कि ‘हातिम’ का हाल होता है