भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिस भी लफ़्ज पे उँगलियाँ रख दे साज़ करे / ज़िया-उल-मुस्तफ़ा तुर्क

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिस भी लफ़्ज पे उँगलियाँ रख दे साज़ करे
नज़्म की मर्ज़ी कैसे भी आग़ाज़ करे

कौन लगाए क़दग़न ख़्वाब में अशिया पर
आइना हाथ मिलाए अक्स आवाज़ करे

जब बच्चों को देखता हूँ तो सोचता हूँ
मालिक इन फूलों की उम्र दराज़ करे

सोते जागते कुछ भी बोलता रहता हूँ
कौन भुला मुझ ऐसे को हमराज़ करें

क़दम क़दम पर इन की ज़रूरत पड़ती है
आँख से कहना आँसू पस-अंदाज़ करे