भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीके जब जैसे दिन आये / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीके जब जैसे दिन आये।
कैसें जात बराये।
दिनन फेर के फेर सें।
स्यार सिंग खाँ धाये।
दिनन फेर से राय मुनईयाँ।
बाजै झपट दिखायें।
दिनन फेर सें सरपन ऊपर।
मिदरन मूँड़ उठाये।
बेर बेर जे खात ईसुरी,
बेर बीन तिन खाये।