भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीत किसके लिए, हार किसके लिए / कृष्ण कुमार ‘नाज़’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीत किसके लिए, हार किसके लिए
ज़िंदगीभर ये तकरार किसके लिए
 
जो भी आया है वो जायेगा एक दिन
फिर ये इतना अहंकार किसके लिए
 
तोड़ डाले तअल्लुक़ के बंधन तो फिर
जन्मदिन पर ये उपहार किसके लिए
 
पूछते हैं दियों से अँधेरे घने
रोशनी का पुरस्कार किसके लिए
 
ज़िंदगी तेरा कोई नहीं है तो फिर
कर रही है तू सिंगार किसके लिए
 
तेरा मक़सद है मुझको डुबोना अगर
फिर ये कश्ती, ये पतवार किसके लिए