भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीना मरना संग तुम्हारे होता तो क्या होता / अनुपम कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीना मरना संग तुम्हारे होता तो क्या होता
नदिया नाव तूफ़ान किनारे होता तो क्या होता

शादी-वादी झगडा-झंझट प्यार-मोहब्बत टंटा
ये सब तुम्हारा घर हमारे होता तो क्या होता

फूल-ख़ुशबू झालर-वालर चद्दर बिस्तर तकिया
साँझ सकारे अंक तुम्हारे होता तो क्या होता

नाश्ता-वास्ता भोजन-बासन खेल-कूद सिनेमा
ये सब तुम्हारा संग हमारे होता तो क्या होता

होली दीवाली दशहरा तीज करवा जितिया
मनाना ये त्यौहार सारे होता तो क्या होता

रोना-धोना छुछु-बिछौना पालना बॉटल भोटिया
रतजगा एक दूसरे के सहारे होता तो क्या होता

आस-विश्वास साँस-उच्छ्वास ‘अनुपम’ अहसास
मेरा तुम्हारा घर हमारे होता तो क्या होता