भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीने की दरकार रहे / विनय मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीने की दरकार रहे
गर दुनिया में प्यार रहे

घर के सपने देती है
ये टूटी दीवार रहे

बाज़ारों में बिक जाना
उनका कारोबार रहे

सारा आलम पतझड़ का
अब किस जगह बहार रहे

बैठ लोग अलावों पर
आँसू बन अंगार रहे

पर्दे गिरते हैं मानो
कुछ ना आख़िरकार रहे