भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जीरा रगरि रगरि हम पिसलूँ / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

जीरा रगरि रगरि[1] हम पिसलूँ।
जीरा पीले बहू, जीरा पीले धनी॥1॥
पाग[2] के पेंच[3] में छानली हे।
जीरा पीले जरा, जीरा पीले जरा॥2॥
होअत बलकवा के दूध।
जीरा पीले जचा, जीरा पीले जचा॥3॥
हम बबा के अलरी दुलरी[4]
हमरा न जीरा ओल्हाय,[5] जीरा कइसे पीऊँ॥4॥

शब्दार्थ
  1. रगड़-रगड़
  2. पगड़ी
  3. लपेट
  4. प्यारी-दुलारी
  5. बरदास्त नहीं होता