भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीवण / राजेश कुमार व्यास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जागूं जणै
उजास हुय जावै
उजास, जीवण है।
 
अंधारो हुवै जणै
नींद आ जावै
नींद, मिरतु है।
 
लिखूं जणै
अकास हुय जावूं
अकास, मन है।
 
सोवूं जणै
सुपना आवै
सुपना, अकास है।
 
मिंदर जावूं जणै
अरदास करूं
अरदास, पछतावो है।
 
नीं पड़ै पार जणै
रीस आवै
रीस, अंतस रो डर है।
उजास / नींद/
अकास / सुपना
अरदास / रीस-
आं सगळां नैं
भेळा कर
जीवूं ओ जीवण।