भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीवतो पाथर / जितेन्द्र सोनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थूं कैयो
थम
म्हैं थमग्यो
अबै बरसां बाद ई
उडीकूं
जे कदै भूल्या-भटक्या
टिपो इण मारग
तो हेत सूं छू भर लीज्यो
का ठोकर मार दीज्यो
म्हूंं जीवतो पाथर
मुगत होय जासूं।