भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीवत गारी लाख दें मरत ही घाले बार / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीवत गारी लाख दें मरत ही घाले बार,
जीवत भूख निकार हैं मरे मिठाई त्यार।
मरे मिठाई त्यार यार क्या कहना जग में,
मरे देत सुखसेज बिखोरे माया (तारा) मग में।
अंधकार संसार में भज मन सीताराम,
शिवदीन चले ना संग में कोई तन धन धाम।
राम गुण गायरे।