भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीवनसंगिनी से / साहिल परमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भूरे-से बालों-सा झूमता हुआ तुम्हें उस पहली रात का उजियारा याद है?

आँखों के पीछे उगे आईने में नाचते थे रुनझुन-रुनझुन सपनों के चेहरे
देखे ना देखे कि झीनी-झीनी रेत बन के ऊपर से छप्पर गिरे थे
चन्दा ने घुसकर, झाँक कर दरारों से ताली पे ताली लगाई थी वो याद है?

भूरे-से बालों-सा झूमता हुआ तुम्हें उस पहली रात का उजियारा याद है?

बोतल में लगे हुए ढक्कन-सा मैं और
उस में बाती जैसी तू
हलके उजियारे में खटिया भी गाती थी
किचूड किचूड चैड चूँ
फटी हुई गुदड़ी पर नई-नई चादर र्में सिलवटें ही सिलवटें पड़ी थीं वो याद है?
फटी हुई गुदड़ी पर नई-नई चादर र्में झुर्रियाँ ही झुर्रियाँ पड़ी थीं वो याद है?

भूरे-से बालों-सा झूमता हुआ तुम्हें उस पहली रात का उजियारा याद है?

मूल गुजराती से अनुवाद : स्वयं साहिल परमार