भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीवन-पतंग: एक आदर्श, एक यथार्थ / रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चला था न मैं तो-
रहस्यमय दिशा-वधुओं का घूँघट खोलने,
हीरे-मोतियों वाले आकाश पर चाँदी के वर्क-सा चिपकने,
धुँधलाते चाँद की कलई करने,
मन्द पड़ते सूरज की लौ को सलाई से उकसाने,
निरा पतंग मैं!

आह, पेंच के खेल में पड़ कर
कटने का सुख भी तो न मिला!
सड़क किनारे, बिजली के तारों में ही
उलझ कर रह गया!
अपनी ही तीलियों से अपने रंगीन कागज की
पसलियों को भेदता-सा!
आँखों में सुनील ऊँचाइयों के ध्वस्त सपने लिए
ठगा-सा रह गया!

उलझी है पतंग अब तो सड़क के तारों में-
जिनमें से पास हो रहा है करेन्ट!
और हवा में झूल रहा है नीचे लटकता
एक अदना धागा-
मेरे अस्तित्व का अवशेष!