भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीवन के रंग / किरण मल्होत्रा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीवन के
रंग भी
कोई समझ पाया है
बहते पानी को
कोई रोक पाया है

आज गम है
तो कल खुशी
आज दोस्त है
तो कल अजनबी

जितनी जल्दी
दिन नहीं ढलता है
उतनी जल्दी
चेहरे बदल जाते है

जो आज
तुम्हारा है
कल किसी
और का
हो जाता है

सब कुछ
मिट जाता है
चंद यादें
रह जाती हैं

जो सिर्फ़
तुम्हारी होती है
सिर्फ तुम्हारी