भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीवन में छेलै सखी, घोर काली रात हे / छोटेलाल दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीवन में छेलै सखी, घोर काली रात हे।
सतगुरु आबि गेलै, होलै परभात हे॥टेक॥
शीतल सुगंध बहै, मंद-मंद वात हे।
कली-कली खिलि गेलै, झूमि गेलै पात हे॥1॥
रोग-सोग भागि गेलै, खोट-खोट बात हे।
आबि गेलै देखो सखी, खुशी के बरात हे॥2॥
दौड़ो दौड़ो दौड़ो सब, करो प्रणिपात हे।
चरण चढ़ाबो फूल, पाबो आशीर्वाद हे॥3॥
सतगुरु भाई-बंधु, सखा पितु मात हे।
गुरु-सम हित नहिं, जोड़ो गुरु नात हे॥4॥
‘लाल दास’ गुरु पाबो भक्ति दात हे।
सफल बनाबो सखी, मानव-सुगात हे॥5॥