भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीवन में जब ग़म छाएगा / रामश्याम 'हसीन'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीवन में जब ग़म छाएगा
तब तुझको जीना आएगा

रस्ता तकते बरसों बीते
आने बाला कब आएगा

आनेवाले! आ भी जा अब
कितना मुझको तरसाएगा

जो भी तूने सोच रखा है
क्या तू वह सब कर पाएगा

बच्चों जैसी ज़िद करता है
ये दिल हमको मरवाएगा