भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीवन शून्य है / अरुण चन्द्र रॉय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सैकड़ों बार कहे जाने के बाद भी
हम दुहराते हैं कि
जीवन शून्य है
और आश्वस्त होते हैं
माया मोह के बन्धन से दूर हैं हम

जितनी बार दुहराते हैं शून्य
शून्य का धागा
मनोकामना के धागे की तरह
मज़बूती से लिपट जाता है
हमारे चारो ओर
कुछ आशाओं के संग

शून्य की यह डोर
चलती रहती है हमारे साथ
साँसों की डोर के समानान्तर
और कहती है शून्य नहीं है जीवन