भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीवन / कीर्ति चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक जीवन मिला था

उसे जिया नहीं

वह अमृत-घट था

उसे पिया नहीं


भरमते रहे

प्यासे और निरीह

उस झरने की खोज में

जो अंदर था

बंद और ठहरा हुआ

उसे अपने को दिया नहीं


मांगते रहे प्यार और आश्वासन

कृपण हो गए हैं लोग

दुहराते रहे बार-बार

खुद को कुछ दिया नहीं

खोजते रहे अलंकरण

सजाने के

उन सपनों को--जो दिखे नहीं।


बीत गई उमर

और एक अदद जीवन

यों ही बिना जिए

अंदर से भरा

और ऊपर से रिक्त ।