भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जी लेने दो / शकुन्त माथुर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जी लेने दो
मुझे
वह कोरा अर्थ
जो मेरे लिए सच्चा है
रख लेने दो मुझे
वही मेरे पास
जो नितान्त मेरा अपना है

पी लेने दो
वह चाह
वह रस
जो मेरे लिए अच्छा है

संचित कर लेने दो वह
जो
घूम रहा है नस-नस में
हर धड़कन में जीवन
जिसको जीकर मैं जान सकूँ
मैंने भी कुछ
अपनी तरह जिया है।