भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जी हो ए ही रे दिवलो इन्द्र लुहार नऽ घड़ियो / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

जी हो ए ही रे दिवलो, इन्द्र लुहार नऽ घड़ियो
जेमऽ पुरव्यो सवा घड़ो तेल, सोन्ना की डांडी दिया हो बळऽ
जी हाँ ए ही रे दिवलो, मजघर मऽ धर्यो,
मजघर बठी म्हारी सदासुहागेण माय,
सोन्ना की डांडी दिया हो बलळऽ
जी हो ए ही रे दिवलो, मनऽ आरती मऽ धर्यो,
आरती धरऽ म्हारी सदासुहागेण बैण,
सोन्ना की डांडी दिया हो बलळऽ
जी हो ए ही रे दिवलो, मनऽ पटसाळ मऽ धर्यो,
पटसाल खेलऽ म्हारा नारा ताना बाळ,
सोन्ना की डांडी दिया हो बलळऽ
जी हो ए ही रे दिवलो, मनऽ सभा मऽ धर्यो,
सभा मऽ बठ्या छे समधी लोग,
सोन्ना की डांडी दिया हो बलळऽ