भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जुगनू बन या तारा बन / हस्तीमल 'हस्ती'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राजा को समझाने निकला
अपनी जान गँवाने निकला

सारी बस्ती राख हुई तब
बादल आग बुझाने निकला

यार! यहाँ तो सब अंधे हैं
किसको ज़ख़्म दिखाने निकला

सारे जग में जिसको ढूँढ़ा
वो मेरे सिरहाने निकला

कह दो ज़ालिम आंधी से तुम
'हस्ती' दीप जलाने निकला