भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जुनख्यालि रात च छोरी / केशव ध्यानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जुनख्यालि[1] रात च छोरी।
कनै हैंसि तू?
गाड[2] पाणि अफ नि पेंदि
फल नि खाँदा डाला
अन्न तैं भि भूख लगद
तीस मेघ-माला।
हर फूल जो स्वाणो[3]
स्वाणे ही नि होंदो
बात को अन्ताज होंद
निस्तुको नि होंदो।
छूँ लगाई लाख, मगर
छपछपि छू लगद क्वी
औखियों मा दुनिया बसद
दिल भितर बसद क्वी
गाड द्यखण पड़द पैले
स्वाँ कु मरद फाल[4]
भक्क कख मरेंद भौं[5] कै
बाँद[6] पर अँग्वाल[7]
भूको ब्वद वलि गदनी
अधणो ब्वद पलि गदनी।
अपणा दिलै मी जणदू
त्यरि जिकुड़ो[8] कन च कनी।

शब्दार्थ
  1. चाँदनी
  2. नदी
  3. सुन्दर
  4. छलांग
  5. हर कोई
  6. सुन्दरी
  7. आलिंगन
  8. हृदय