भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जुनूँ-पसंद हरीफ़-ए-ख़िरद तो हम भी हैं / रऊफ़ खैर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जुनूँ-पसंद हरीफ़-ए-ख़िरद तो हम भी हैं
अदू जो नेक नहीं है तो बद तो हम भी हैं

हज़ार सिफ्र सही इक अदद तो हम भी हैं
तुम्हारे साथ अज़ल-ता-अबद तो हम भी हैं

अब इतना नाज़ समंदर-मिज़ाजियों पे न कर
कि अपने आप में इक जज़्र-ओ-मद तो हम भी हैं

हमें कुबूल कहाँ कम-सवाद करते हैं
ख़राब-ए-मश्‍ग़ला-ए-रद्द-ओ-कद तो हम भी हैं

हम अपने आप से आगाह इस क़दर तो न थे
चलो निशाना-ए-रश्‍क-ओ-हसद तो हम भी है