भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जुल्म और अन्याय सहने के लिए मजबूर था / डी. एम. मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जुल्म और अन्याय सहने के लिए मजबूर था
कर भी क्या सकता था वो बाहैसियत मज़दूर था।

जब हुआ था हादसा सब हाथ बाँधे थे खड़े
ग़़म किसे था, ग़म का लेकिन ढोंग बदस्तूर था।

छै महीना भी न बीता हो गयी टीबी उसे
गाँव से आया हुआ था हौसला भरपूर था।

चुक गयीं साँसे जब उसकी आ गये सब मददगार
एक भी इन्साँ न था मजमा वहाँ पे ज़रूर था।

हैसियत भी थी बड़ी और धन भी था उसके अकूत
वो किसी को क्या समझता मद में अपने चूर था।

चश्मदीद गवाह था वो इसलिए मारा गया
साथ वो सच के खड़ा था बस यही तो कु़सूर था।