भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जूजू...मराअ् बारा की गाई...गाई / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

जूजू...मराअ् बारा की गाई...गाई
एना बारा खअ् कोनअ् मार्यो
हडु...हडु
निन्दर कोनअ् करी एना बारा की
हडु...हडु
मरो बारा हय नांगड़
जसो फुल्ल को टोपर
हडु...हडु...
जूजू....मरा बारा की
गाई....गाई ....