भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जूते और विचार / अंजू शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी कभी
जूते छोटे हो जाते हैं
या कहिये कि पांव बड़े हो जाते हैं,
छोटे जूतों में कसमसाते पाँव
दिमाग से बाहर आने को आमादा विचारों
जैसे होते हैं,
दोनों को ही बांधे रखना
मुश्किल और गैर-वाजिब है,
ये द्वन्द थम जाता है जब
खलबली मचाते विचार ढूँढ़ते हैं एक
माकूल शक्ल
और शांत हो जाते हैं,
और पाँव पा जाते हैं एक नया जूता...