भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जेको तो दर आयो सॼणां तुंहिंखे को डरु नाहे / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तर्ज़: सस त मुंहिंजी साड़ेली आ

जेको तो दर आयो सॼणां तुंहिंखे को डरु नाहे
कष्ट कटींदो, लालण मुंहिंजो झोली भरींदो लालण मुंहिंजो...
दुखिड़ा कटींदो, झूलण मुंहिंजो
ॾिसु भले आज़माए

तो दर आहियां सुवाली तोखां दान इहो थी चाहियां
लाल उॾेरा लहरुनि वारा दासी तुंहिंजी आहियां
प्रेम प्यालो-भरे भरे ॾे, नाम दान जो - भरे भरे ॾे
भॻती ज्ञान जो - भरे भरे ॾे ॿियो कंहिंखे ॿाॾायां

ऐबनि ॾे न नज़र कर सॼिणा आहियां आउं अणॼाण
हाल ॾिसी करि भाल भलायूं पंहिंजो पाण सुञाण
आहियां सुवाली-तो दर लालण
वेंदसि न ख़ाली-तो दरां लालण
तूं जॻ वाली- तो दरां लालण
इहो कजाईं अहिसान