भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जे उट्ठ चल्लियों चाकरी, चाकरी वे माहिया / पंजाबी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

जे उट्ठ चल्लियों चाकरी, चाकरी वे माहिया

सान्नूँ वी लै चल्लीं नाल वे

अख्खियाँ नूँ नींद क्यों न आई वे

तूँ करेंगा चाकरी, चाकरी वे माहिया

मैं कत्तांगी सोहणा सूत वे

अख्खियाँ नूँ नींद क्यों न आई वे

इक्क ट्का तेरी चाकरी, चाकरी वे माहिया

लख्ख टके दा मेरा सूत वे

अख्खियाँ नूँ नींद क्यों न आई वे


भावार्थ

--'यदि काम पर जाने के लिए तुम तैयार हो, काम पर जाने को प्रीतम ! तो मुझे भी अपने साथ ले चलो ।

अजी, मैं भी कहूँ, मुझे नींद क्यों नहीं आती ? तुम करोगे नौकरी, ओ मेरे प्रीतम ! और मैं कातूंगी सूत सुन्दर

मेरे प्रिय ! अजी, मैं भी सोचती हूँ, ये नींद क्यों नहीं आती ? एक रुपए की नौकरी तुम्हारी, ओ प्रीतम ! मेरा

सूत होगा एक लाख का । अजी, मैं भी कहूँ मुझे आख़िर नींद क्यों नहीं आती ।'