भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जे देवी दयाल भई मोरे अगना / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

जे देवी दयाल, भई मोरे अंगना
देवी के हाथन दूध औ जलेबी
जो जूठन डाल चली मोरे अंगना। जे देवी...
देवी के हाथन फूलों की माला
जे माला डाल चली मोरे अंगना। जे देवी...
मैया के हाथन मोहरे अशर्फी
जे मोहरें डाल चली मोरे अंगना। जे देवी...
मैया के हाथन उड़िया झडूले
जे पलना डाल चली मोरे अंगना। जे देवी...