भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जैसे अभी नहाई धूप / प्रदीप शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वापस फिर से नर्म हवायें
ले कर आई धूप

कल की
जहर बुझी तलवारें
कहीं खो गई हैं
पछुआ की सिरफिरी हवायें
कहीं सो गई हैं
सुबह सुबह आकर बैठी है
कुछ शरमाई धूप

गलियों गलियों
घूम रही है
हर चौराहे नाके
ओस बूँद में घुस कर बैठी
और वहीँ से झाँके
खड़ी हुई आँगन में जैसे
अभी नहाई धूप

फुनगी से उतरी
सीधे तो
लोट रही है घास पर
कुहरे की झीनी चादर का
घूंघट लिए उजास पर
बहुत देर तक बस फूलों से
ही बतियाई धूप
वापस फिर से नर्म हवायें
ले कर आई धूप