भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जैसे कोई दायरा तकमील पर है / अब्दुल अहद 'साज़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैसे कोई दायरा तकमील पर है
इन दिनों मुझ पर गुज़िश्ता का असर है

ज़िन्दगी की बन्द सीपी खुल रही है
और उस में अहद-ए-तिफ़्ली का गुहर है

दिल है राज़-ओ-रम्ज़ की दुनिया में शादाँ
अक़्ल को हर आन तशवीश-ए-ख़बर है

इक तवक़्क़ुफ़-ज़ार में गुम है तसलसुल
लम्हा-ए-मौजूद गोया उम्र भर है

ज़ेहन में रौज़न अनोखे खुल रहे हैं
जिन से अन-सोची हवाओं का गुज़र है

फ़ासले तक़्सीम ही होते नहीं जब
'साज़' फिर क्या सुस्त-रौ क्या तेज़-तर है