भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जैसे महका फूल लगे / विनय मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैसे महका फूल लगे ।
ग़म कितना माक़ूल लगे ।
 
एक खिलौना टूट गया,
सहमी-सहमी भूल लगे ।
 
कभी पढ़ाई ख़त्म न हो,
जीवन वो स्कूल लगे ।
 
उसके पीछे हो लूँ मैं,
वो इतना अनुकूल लगे ।
 
आज़ादी का मंज़र भी।
बढ़ता हुआ बबूल लगे ।