भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जैसे मूसा थान बेसकीमती कतर जात / मुरली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैसे मूसा थान बेसकीमती कतर जात ,
कौवाहू बिगारि जात कलस के नीर को ।
साँप डसि जात विष चढ़ि जात रोम रोम ,
कुत्ता काटि खात राह चलत फकीर को ।
मुरली कहत जैसे बिच्छू डँक मारि जात ,
कछू ना सोहात व्यथा करत सरीर को ।
वैसे ही चुगलखोर नाहक परायो काम ,
देत हैँ बिगार ना डेरात रघुबीर को ।


मुरली का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।