भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जोॻी मुंहिंजो जादूगर आयो आ / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जोॻी मुंहिंजो जादूगर आयो आ
प्रीतम पाण पधारियो आ

1.
दर्शन मिलियो अथमि दिलदार जो
जादू लॻो अथमि पंहिंजे यार जो
आहे सुहिणनि खे, सलाम मुंहिंजो
घणनि ॾींहनि खां पोइ मनठार आयो आ
जोॻी मुंहिंजो जादूगर आयो आ

2.
वेहु तूं साम्हूं मुंहिंजे प्यारा
होश रहियो न कमकार जो
अंजाम पंहिंजा तूं याद रखजाईं
कुर्ब वारो मुंहिंजो कुर्बदार आयो आ
जोॻी मुंहिंजो जादूगर आयो आ

3.
मुंहिंजे अङण में पेही आया
सिक ऐ सार जा सौदा कया
हिन सिकीअ जा थिया लाया सजाया
‘निमाणीअ’ जी दर ते मनठार आयो आ
जोॻी मुंहिंजो जादूगर आयो आऽ