भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो इंसां बदनाम बहुत है / देवमणि पांडेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो इंसाँ बदनाम बहुत है

यारो उसका नाम बहुत है।


दिल की दुनिया महकाने को

एक तुम्हारा नाम बहुत है।


लिखने को इक गीत नया-सा

इक प्यारी सी शाम बहुत है।


सोच समझ कर सौदा करना

मेरे दिल का दाम बहुत है।


दिल की प्यास बुझानी हो तो

आँखों का इक जाम बहुत है।


तुमसे बिछड़कर हमने जाना

ग़म का भी ईनाम बहुत है।


इश्क़ में मरना अच्छा तो है

पर ये क़िस्सा आम बहुत है।