भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो ऊपर जा रहे हैं / समीर बरन नन्दी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

याज्ञवल्क्य पैंट-कमीज़ पहनकर
ऊँचे आसन पर जा रहे है ।

जटिल समस्याएँ
प्रखर चिन्तक

उदीग्न रहता है
मेखा - मुख ।
 
फ़न की तरह हाथ उठाकर
जिज्ञासु को कर देते है शांत ।

कुश-वाणी
आरी सा धार ।

लाल आँखों से
देखते हैं --

हिंदी के कवि को....
तो हँस-हँस पड़ते हैं ।