भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो कुछ भी है नज़र में सो वहम-ए-नुमूद है / फ़रहत कानपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो कुछ भी है नज़र में सो वहम-ए-नुमूद है
आलम तमाम एक तिलिस्म-ए-वजूद है

आराइश-ए-नुमूद से बज़्म-ए-जुमूद है
मेरी जबीन-ए-शौक़ दलील-ए-सुजूद है

हस्ती का राज़ क्या है ग़म-ए-हस्त-ओ-बूद है
आलम तमाम दाम-ए-रूसूम-ओ-क़ुयूद है

अक्स-ए-जमाल-ए-यार से वहम-ए-नुमूद है
वर्ना वजूद-ए-ख़ल्क भी ख़ुद बे-वजूद है

अब कुश्तगान-ए-शौक़ को कुछ भी न चाहिए
फ़र्श-ए-ज़मीं है साया-ए-चर्ख़-ए-कबूद है

हंगामा-ए-बहार की अल्लाह रे शोख़ियाँ
ज़ाग़-ओ-ज़ग़्न का शोर भी सौत-ओ-सुरूद है