भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो चलता अपने पैरों पर‌ / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भर्र भर्र कर बस चलती है,
टर टर टर करता स्क्रूटर|
ढर्र ढर्र कर चले टेंपो,
ट्रेन चला करती है सर‌ सर|

तीन चके का होता रिक्शा,
दौड़े सड़कों पर फर फर फर|
किन्तु सायकिल हाय बेचारी,
दो पहियों पर चलती छर छर|

जहाँ ट्रेक्टर और बुल्डोज़र,
करते रहते घर्र घर्र घर|
वहीं लक्ज़री कारें च‌लतीं,
जैसे नदिया बहती हर हर‌|

किन्तु आदमी नामक प्राणी,
जो चलता अपने पैरों पर|
तन तंदुरुस्त रहा करता है,
रहता स्वस्थ सदा जीवन भ‌र|