भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो चाहे अचल औवात हो / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो चाहे अचल औवात हो अपने पिया से प्रीतिकर।
जो लो मन विभिचार में हो तो लो मन में त्रास।
अपने को चीनी नहीं अंतहि भई निरास हो।
जैसे रंग पतंग को विभाचारी को हेत।
दिना चार झलकी लगो फिर कड़ आयो सेत हो।
भौसागर भारी नदी बहुत खरेरी धार,
ओट गह्यो निज नाम की बानी शबद समार हो।
प्रीति पलक बिछुरे नहिं नहिं मन होत अडोल हो।
जूड़ी कहत पुकार कें फिर नहीं तोरो मोल हो।