भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो ज़माने का हम-ज़बाँ न रहा / 'बाकर' मेंहदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो ज़माने का हम-ज़बाँ न रहा
वो कहीं भी तो कामराँ न रहा

इस तरह कुछ बदल गई है ज़मीं
हम को अब ख़ौफ़-ए-आसमाँ न रहा

जाने किन मुश्‍किलों से जीत हैं
क्या करें कोई मेहर-बाँ न रहा

ऐसी बेगानगी नहीं देखी
अब किसी का कोई यहाँ न रहा

हर जगह बिजलियों की योरिश है
क्या कहीं अपना आशियाँ न रहा

मुफ़लिसी क्या गिला करें तुझ से
साथ तेरा कहाँ कहाँ न रहा

हसरतें बढ़ के चूमती है क़दम
मंज़िलों का कोई निशां न रहा

ख़ून-ए-दिल अपना जल रहा है मगर
शम्मा के सर पे वो धुवाँ न रहा

ग़म नहीं हम तबाह हो के रहे
हादसा भी तो नागहाँ न रहा

क़ाफ़िले ख़ुद सँभल सँभल के बढ़े
जब कोई मीर-ए-कारवाँ न रहा