भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो भी तेरी आँख को भा जाएगा / तुफ़ैल बिस्मिल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो भी तेरी आँख को भा जाएगा
जान-ए-जाँ महबूब समझा जाएगा

नाम ज़ुल्फों का न लेना भूल कर
दिल का पंछी दाम में आ जाएगा

वक़्त के मक़्तल में हम हैं दोस्तो
वक़्त इक दिन हम को भी खा जाएगा

वो समझता है मिरी हालत मगर
मैं अगर कह दूँ तो शरमा जाएगा

कुछ न कहना राज़-दाँ बस देखना
आँख से वो मुद्दआ पा जाएगा

कह रहे हैं वो न ‘बिस्मिल’ यूँ तड़प
तुझ पे ज़ालिम दिल मिरा आ जाएगा